Friday 30 October 2009

आभारव्यक्ति

मेरी पिछली पोस्ट "भय, महत्त्व / महत्वहीन....." (२४ अक्टूबर ) पर
प्रतिक्रिया व्यक्त करने वाले निम्न सभी सम्मानीय क्षुदी और शुभचिन्तक
पाठक/ पाठिकाओं... या कहें कि स्नेहिल टिप्पणीकारों (क्रम वही, जिस
क्रम में टिपण्णी/ प्रतिक्रिया/ आलोचना/ समालोचना प्राप्त हुई)....

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक जी, प्रमोद ताम्बत जी, निर्मला कपिला जी,
सुमन जी, विनोद कुमार पांडेय जी, रश्मि प्रभा जी, राजे शा जी,
अमिताभ श्रीवास्तव जी, संगीता जी, राज भाटिया जी, रंजना
[रंजू भाटिया] जी, ज्योति सिंह जी, पी. सी. गोदियाल जी, परमजीत
बाली जी, महफूज़ अली जी, एम्. वर्मा जी, क्रियेटिव मंच, Pt.डी.के.
शर्मा"वत्स" जी, लता हया जी, शरद कोकस जी, योगेन्द्र मौदगिल जी,
अल्पना वर्मा जी, सर्वत एम० ज़माल जी, मनोज भारती जी, ज्ञान दत्त
पाण्डेय जी, अलका सर्वत जी, दिगंबर नसावा जी, श्रद्धा जैन जी,
तुलसियान पटेल "सच्चाई" जी, के.के. यादव जी, आकांक्षा जी, दर्पण
साह "दर्शन" जी, संजय भाष्कर जी, डा. टी एस दराल जी, श्याम कोरी
"उदय" जी, अपूर्व जी, स्मार्ट इंडियन, रंजना जी एवं रोशनी जी का
विशेष रूप से हार्दिक आभारी हूँ कि आप सभी ने पहले की ही तरह स्नेह
बनाये रखते हुए २४ अक्टूबर की मेरी पोस्ट पर भी ह्रदय से मेरी हौसला
अफजाई कर भविष्य में भी इसी तरह कुछ न कुछ लिखते रहने और पोस्ट
करने लायक संबल प्रदान किया है और आशा है कि भविष्य में भी कुछ यूँ ही
अपना-अपना स्नेहिल मार्गदर्शन मेरे ब्लाग पर आकर मुझे अनवरत प्रदान
करते रहेंगें....

मैं उन गुरुजन से टिप्पणीकारों का भी विशेष आभारी हूँ, जिन्होंने अलग से मेरे
मेल ऐड्रेस पर सन्देश लिख मुझे और भी बेहतर लिखने मार्फ़त सुझाव/ टिप्स
दिए.

और अंत मे, मैं अपने उन सह्रदय, परम आदरणीय टिप्पणीकारों का भी आभार
व्यक्त करना चाहता हूँ, जो प्रायः मेरे ब्लाग पर आकर मुझे अपने आशीष वचनों
से नवाजते ज़रूर हैं, किन्तु मेरी पिछली पोस्ट पर किसी न किसी खास काम में
व्यस्तता के कारण टीका-टिपण्णी करने से चूक गए।

**************************************************************
अनुरोध

आप सब से विनम्र अनुरोध है कि कृपया इस "पोस्ट" पर टिपण्णी न करे, यह
विशुद्ध रूप से सिर्फ और सिर्फ आप जैसे अपने सभी स्नेहिल टिप्पणीकारों के
प्रति सम्मानपूर्वक आभारव्यक्ति के लिए है. इस पोस्ट से सम्बंधित किसी भी
तरह की टिपण्णी आप मेरी अगली पोस्ट, जो ३१ अक्तूबर को "मजबूरियाँ,
गिले-शिकवे और प्रगति........" के नाम से पोस्ट होगी, में कर सकते हैं.
आशा है आप सभी अपना पूर्वत स्नेह बनाये रखेंगें..........

*****************************************************************

2 comments:

राज भाटिय़ा said...

जनाब आप इतनी मेहनत करते है, हम सब का धन्यवाद करने के लिये तो बदले मै हमे भी तो धन्यवाद करना चाहिये, माफ़ी चाहुंगा मना करने के बाद भी धन्वाद करने आ गया

अल्पना वर्मा said...

is post ka layout sahi nahin lag raha hai..post side se cut rahi hai..kripya check kareeye.